संस्कृति

ग्रामीण कौशल योजना से खुले रोजगार के द्वार

मुख्यमंत्री ने दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के लाभार्थियों से बातचीत की

L

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने   दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के अंतर्गत रोजगार प्राप्त करने वाले लाभार्थियों से बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने ग्रामीण गरीब युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए यह योजना शुरू की है ताकि उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकें और वे सम्मानपूर्वक आजीविका अर्जित कर सकें। उन्होंने कहा कि इस योजना के अन्तर्गत निःशुल्क आवासीय सुविधा के साथ प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। इस योजना के अन्तर्गत www.kaushalpanjee.nic.in में पंजीकरण करवाने वाले इच्छुक उम्मीदवारों को विभिन्न व्यवसायों जैसे ब्यूटिशन, टेलरिंग, स्टोरेज आॅपरेटर, स्पा इत्यादि का प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है।

 

जय राम ठाकुर ने कहा कि योजना के अन्तर्गत अब तक 5320 युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान किया गया है जिनमें से 3021 युवाओं को रोजगार मिल चुका है। योजना के अन्तर्गत वर्ष 2019-23 के लिए 22 हजार युवाओं को प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने अधिकारियों को इस योजना का और अधिक प्रभावशाली तरीके से प्रचार करने के निर्देश दिए ताकि अधिकतम ग्रामीण युवा इस योजना का लाभ उठा सकंे।

 

मुख्यमंत्री ने इस दौरान ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग की मासिक पत्रिका राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन का भी विमोचन किया। इस पत्रिका को पंचायत स्तर पर जागरूकता उत्पन्न करने के लिए विभिन्न हितधारकों में वितरित किया जाएगा।

 

जय राम ठाकुर ने योजना के लाभार्थियों को टी-शर्ट, टोपी और मास्क वितरित कर सम्मानित किया और उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए अपनी शुभकामनाएं दीं।

 

दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना के लाभार्थियों ने मुख्यमंत्री से अपने अनुभव साझा किए।

 

सचिव ग्रामीण विकास और पंचायती राज संदीप भटनागर, निदेशक ग्रामीण विकास और पंचायती राज ऋग्वेद ठाकुर, मुख्य कार्यकारी अधिकारी हिमाचल प्रदेश ग्रामीण आजीविका मिशन अनिल शर्मा, मुख्य आॅपरेटिंग अधिकारी दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना हितेन्द्र शर्मा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

Related Articles

Back to top button
English English Hindi Hindi
Close