पर्यावरणविशेष

EXCLUSIVE: प्लास्टिक फ्लैग के साथ अन्य चार अहम चीजें हिमाचल में जल्द बैन

भारत सरकार ने जारी किए निर्देश, हिमाचल में बनेगी कमेटी

 

पर्यावरण को दुष्प्रभाव पहुंचाने वाली प्लास्टिक की कई अहम चीजों को बैन करने के बाद अब हिमाचल प्लास्टिक के झंडे  के अलावा चार अन्य चीजों को भी जल्द बैन कर देगा। जो पर्यावरण  सुधार को लेकर काफी अहम कदम माना जाने वाला है।

भारत सरकार ने इस बाबत निर्देश जारी कर दिए गए हैं जो पर्यावरण बचाओ को लेकर अहम माने जा रहे हैं। हालांकि हिमाचल सरकार के तहत इस बार भी प्लास्टिक के तिरंगे को फहराने को लेकर प्रतिबंध लगाया गया था लेकिन लिखित तौर पर जल्द ही यह आदेश जारी हो जाएंगे जिस पर हिमाचल सरकार भी इस बाबत अधिसूचना जारी कर देगा।

 

  अब प्लास्टिक फ्लैग के साथ इयर बड्स , कैंडिड स्टिक्स ,  आइस  क्रीम स्टिक्स , बैलून स्टिक्स शामिल है। इसके साथ ही प्लास्टिक की छोटी बोतल भी अब कार्यक्रमों में नजर नहीं आएगी हालांकि हिमाचल में सरकारी क्षेत्रों में अभी ये बोतल अब नजर नहीं आती लेकिन प्रदेश में अब निजी क्षेत्रों के कार्यक्रमों में भी इन बोतल को नहीं देखा जाएगा इसे भी बैन के दायरे में लिया जा रहा है। इसे 1 जुलाई 2022 तक लागू कर दिया जाएगा।

 शनिवार को शिमला के पीटरहॉफ में राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के तहत काफी अहम जानकारियों के साथ एक अहम सेमिनार आयोजित किया गया जिस में उपस्थित अधिकारियों के साथ वैज्ञानिकों ने भी कई अहम जानकारी दी। कार्यक्रम में दी गई जानकारी में अब बैन की जा रही वस्तु का भी खुलासा किया गया है। जिसमें खास तौर पर यह बताया गया है कि हिमाचल किस तरह सजग है ।जानकारी दी गई है कि 1 जुलाई 2022 तक चीजों को बैन करने संबंधित सभी दिशा निर्देश अधिसूचित के तौर पर जारी कर दिए जाएंगे ।

जिस पर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भी कड़ी नजर रखेगा। गौर हो कि राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अपने बेहतर कार्य प्रणाली के साथ इस पर नजर रखे हुए हैं और प्लास्टिक के समान के इस्तेमाल को लेकर पहले ही तय कार्रवाई के साथ पीसीबी आगे बढ़ रहा है लेकिन अब नई चीजों के बैंन को लेकर भी पीसीबी ने कमर कस ली है। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने यह साफ किया है कि पर्यावरण बचाओ को लेकर आमजन को भी जागरूक होना आवश्यक है ।भले ही चीजें बैन कर दी गई हो लेकिन जो निर्देश जारी किए जाते हैं उसका पालन करना भी आमजन के लिए आवश्यक है जिससे पर्यावरण बचाओ  ही नहीं बल्कि स्वास्थ्य में भी काफी सुधार देखा जा सकेगा।

Related Articles

Back to top button
English English Hindi Hindi
Close